ओशो ने कहा था, कष्ट और पीड़ा है एक अच्छा संकेत Osho

अकेले होकर स्वयं का सामना करना भयावह और दुखदाई है और प्रत्येक को इसका कष्ट भोगना पड़ता है। इससे बचने के लिए कुछ भी नहीं करना चाहिए, मन को वहां से हटाने के लिए कुछ भी नहीं करना चाहिए और इससे बचने के लिए कुछ भी नहीं करना चाहिए।
हर एक को पीड़ा भोगनी ही होगी और इससे गुजरना होगा। यह कष्ट और यह पीड़ा एक अच्छा संकेत है कि तुम नए जन्म के नजदीक हो, क्योंकि हर जन्म के पूर्व पीड़ा अवश्यंभावी है। इससे बचा नहीं जा सकता और इससे बचने का प्रयास भी नहीं करना चाहिए, क्योंकि यह तुम्हारे विकास का एक आवश्यक अंग है, लेकिन यह पीड़ा क्यों होती है?
इसे समझ लेना चाहिए क्योंकि समझ इससे गुजरने में मददगार होगी और यदि तुम इसे जानते हुए इससे गुजर सके तब तुम अधिक आसानी से और अधिक शीघ्रता से इसके बाहर आ सकते हो।
जब तुम अकेले होते हो तो पीड़ा क्यों होती है? पहली बात यह है कि तुम्हारा अहंकार बीमार हो जाता है। तुम्हारा अहंकार तभी रह सकता है जब तक दूसरे हैं। यह संबंधों में विकसित हुआ है, यह अकेले में जी नहीं सकता है।
इसलिए यदि ऐसी स्थिति आ जाए, जिसमें यह जी ही नहीं सकता, तो यह घुटन महसूस करने लगता है, उसे लगता है कि यह मृत्यु के कगार पर है। यह सबसे गहरी पीड़ा है, तुम ऐसा महसूस करते हो जैसे तुम मर रहे हो। लेकिन यह तुम नहीं हो जो मर रहे हो, यह केवल तुम्हारा अहंकार है, जिसे तुमने स्वयं होना मान लिया है। जिसके साथ तुम्हारा तादात्म्य हो गया है। यह जिंदा नहीं रह सकता, क्योंकि यह तुम्हें दूसरों के द्वारा दिया हुआ है। यह एक योगदान है। जब तुम दूसरों को छोड़ देते हो, तब तुम इसे ढो नहीं सकते।
इसलिए अकेलेपन में, तुम जो भी अपने बारे में जानते हो, सब गिर जाएगा, धीरे-धीरे वह विदा हो जाएगा। तुम अपने अहंकार को कुछ समय के लिए लंबा खींच सकते हो-और वह भी केवल तुम्हें अपनी कल्पना द्वारा करना होगा-लेकिन तुम इसे बहुत लंबे समय तक नहीं खींच सकते। आज समाज के बिना तुम्हारी जड़ें उखड़ जाती हैं, जमीन नहीं मिलती, जहां से जड़ों को भोजन मिल सके। यही मूल पीड़ा है।
तुम्हें यह भी निश्चित नहीं रहता कि तुम कौन हो, तुम एक फैलते हुए व्यक्तित्व माभ रह गए हो, एक पिघलते हुए व्यक्तित्व। लेकिन यह अच्छा है, क्योंकि जब तक तुम्हारा झूठा व्यक्तित्व समाप्त नहीं होता, वास्तविक प्रकट नहीं हो सकता। जब तक तुम फिर से पूरी तरह धुल नहीं जाते और स्वच्छ नहीं हो जाते, वास्तविकता प्रकट नहीं हो सकती।
इस झूठ ने सिंहासन पर कब्जा जमा लिया है। इसे वहां से हटाना होगा। एकांत में रहने से, जो भी झूठ है सब समाप्त हो जाता है। और जो भी समाज द्वारा दिया गया है, सब झूठ है। वास्तव में जो भी दिया गया है, सब झूठ है और जो भी जन्म के साथ आया है, सत्य है। जो भी तुम स्वयं अपने तईं जो हो, जो किसी दूसरे द्वारा दिया नहीं गया है, वास्तविक है, प्रामाणिक है। लेकिन झूठ को जाना चाहिए और झूठ में तुम्हाार बहुत अधिक निवेश है। इसमें तुमने इतना अधिक निवेश कर रखा है, तुम इसकी इतनी देखभाल करते हो, तुम्हारी सारी आशाएं इसी पर टंगी है, इसलिए जब यह घुलने लगता है, तुम भयभीत हो जाते हो, डर जाते हो और कांपने लगते हो, ‘तुम स्वयं के साथ क्या कर रहे हो? तुम अपना सारा जीवन, सारे जीवन का ढांचा नष्ट कर रहे हो।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *