क्या माता-पिता और बच्चों के बीच कर्मों के बंधन होते हैं?

क्या माता-पिता के हमारे साथ कर्मों के बंधन होते हैं? सद्‌गुरु योग विज्ञान के अनुसार बच्चों और माता पिता के बीच के कर्म संबंधों के बारे में समझा रहे हैं।

लक्ष्मी: नमस्कारम् सद्‌गुरु! क्या माता-पिता के साथ हमारे रिश्ते हमारे पूरे जीवन पर असर डालते हैं? अगर हां, तो इन रिश्तों को पोषित करने का सबसे अच्छा तरीका क्या है?

सद्‌गुरु: नमस्काररम् लक्ष्मीो। योगिक विज्ञान के अनुसार देखें, तो हम मानव जीवन को एक पूर्ण चक्र तब मानते हैं, जब व्यक्ति चौरासी साल की उम्र तक जीवित रहे। जीवन के इस चक्र में, जिसमें चंद्रमा के लगभग एक हजार आठ चक्र होते हैं, पहले चौथे हिस्से में ऊर्जा की दृष्टि से माता-पिता का हमारे ऊपर प्रभाव होता है। कार्मिक असर के स्तर पर, सिर्फ इक्कीस वर्ष की उम्र तक माता-पिता हमें प्रभावित कर सकते हैं। उसके बाद हमें उनसे प्रभावित नहीं होना चाहिए। मगर उन्हों ने हमारे लिए जो भी किया है, पहले तो वे हमें इस दुनिया में लेकर आए और हमसे प्रेम तथा जुड़ाव के कारण और भी कई चीजें कीं। इन सभी चीजों के लिए हम बस आभारी हो सकते हैं।

प्रेम और आभार पूरी उम्र के लिए होता है

इक्की स वर्ष की उम्र के बाद व्य क्ति को माता-पिता से प्रभावित नहीं होना चाहिए क्योंकि महत्वरपूर्ण चीज यह है कि यह एक नया जीवन है। इसे पिछली पीढ़ी की चीजों का दोहराव नहीं होना चाहिए। तो, इक्कीनस साल की उम्र तक एक कार्मिक असर होता है जो निश्चित रूप से हर किसी को प्रभावित करता है। मगर इक्की स साल की उम्र के बाद ऐसी कोई चीज नहीं होती। हो सकता है बहुत सारे लोग माता-पिता पर मनोवैज्ञानिक, आर्थिक या सामाजिक रूप से निर्भर हों, मगर मुख्यि रूप से इक्की स की उम्र में यह कार्मिक बंधन टूट जाता है। हमें इक्कीस की उम्र के बाद माता-पिता द्वारा पोषण की तलाश नहीं करनी चाहिए। उसके बाद यह रिश्तोंम, प्रेम, कृतज्ञता(आभार) का बंधन होता है, ये चीजें हमेशा के लिए रह सकती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *