दिये की ज्योति का एक हो जाना

 प्यारी शिरीष,

प्रेम । यौन केन्द्र (Sex Centre)
प्रकृति से संबंध का द्वार ।

और, ठीक एेसे ही सहस्रार परमात्मा
से सम्बन्ध का ।

ऊर्जा (Energy) एक ही है ।

वही काम में बहती है, वही राम में ।

लेकिन, यात्रायें भिन्न हैं ।

दिशायें भिन्न हैं ।

परिणाम भिन्न हैं ।

उपलब्धियॉं भिन्न हैं ।

ध्यान प्रारम्भ होता है—यौन-केन्द्र
से ही ।

क्योंकि, वहीं मनुष्य है ।

पर, गहराई के साथ-साथ उर्ध्वगमन
होता है ।

चेतना पानी की जगह अग्नि बन
जाती है ।

नीचे की जगह ऊपर की ओर बहाव
शुरू होता है ।

और, अन्तत: सहस्रार पर समस्त
ऊर्जा इकट्ठा हो जाती है ।

यह छलाँग के पूर्व अनिवार्य तैयारी है ।

और, जिस क्षण भी अविभाज्य रूप से
समस्त जीवन-शक्ति (Élan Vital) सहस्रार
पर संग्रहित होती है, उसी क्षण छलाँग लग
जाती है और दिये की ज्योति महासूर्य से
एक हो जाती है ।

{____________}
रजनीश के प्रणाम
८-३-१९७१

[प्रति: सौ० शिरीष पै (साध्वी योग शिरीष)]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *