Sri Sri Ravi Shankar Hindi

अर्जुन के रथ पर मौजूद हनुमान का क्या महत्व था? | Importance of presence of Hanuman on Arjuna’s chariot

हनुमान जी की महाभारत में भूमिका | Mysterious role of Lord Hanuman in Mahabharata उन समय में लोग कुछ...
Sri Sri Ravi Shankar Hindi

श्रद्धा एवं जागरूकता (Faith and Awareness in Hindi)

श्रद्धा और सजगता, दोनों एक दूसरे के विरोधाभासी लगते हैं। जब तुम पूर्णतः जागरूक होते हो तो अक्सर श्रद्धा...
Sri Sri Ravi Shankar Hindi

ध्यान के बारे में १० मिथक | 10 Myths about meditation

यहां ध्यान के बारे में कई आम कल्पनाओ की एक सूची है। आशा है कि यदि आपका भी ध्यान...
Sri Sri Ravi Shankar Hindi

ध्यान और शरीर | Meditation & The Body

ध्यान और शरीर : बेहतर स्वास्थ्य के लिए। Meditation and The Body – For Better Health “हमारा शरीर एक...
Sri Sri Ravi Shankar Hindi

ध्यान के ५ रहस्य | 5 well-kept secrets of meditation

ध्यान के रहस्य | Secrets of meditation जन्म से पूर्व ध्यान |Prenatal meditation ध्यान में आराम |Comfort of meditation...
Sri Sri Ravi Shankar Hindi

दुःख निवारण

सूत्र : हेयं दुःखमनागतम्॥१६॥ दुःख के मूल कारण को मिटाना आवश्यक है। जो दुःख अभी जीवन में आया नहीं है, जो प्रस्फुरित...
Sri Sri Ravi Shankar Hindi

ईश्वर प्रणिधान – ईश्वर के लिए भक्ति कैसे हो सकती है, प्रेम कैसे उमड़ सकता है?

ईश्वर को अपने आप से अलग देखना पहला कदम है। समर्पण के लिए भी दो की आवश्यकता होती है,...
Sri Sri Ravi Shankar Hindi

सबीज समाधि

सबीज समाधि सबीज समाधि का अनुभव तुम बाहरी कार्यकलाप के दौरान करते हो। जब तुम एक बच्चे थे, तब तुम...
Sri Sri Ravi Shankar Hindi

इंद्रियों का स्थायित्व और समाधि में ठहराव

जब कभी पृथ्वी कुछ क्षण मात्र के लिए हिलती है, तब भयंकर आपदा आती है। हम इस पृथ्वी पर...
Sri Sri Ravi Shankar Hindi

सुदर्शन क्रिया से एकतत्त्वभ्यास

महृषि पतंजलि हमारे मन के बड़े अच्छे विशेषज्ञ है। महृषि पतंजलि जानते थे की कोई भी व्यक्ति सभी के लिए...
Sri Sri Ravi Shankar Hindi

ॐ क्या है?

सूत्र : तस्य वाचकः प्रणवः उस ईश्वरीय चैतन्य को ॐ कह कर पुकारते हैं। ॐ चैतन्य के निकटतम है जिसे उसे  पुकारने के...
Sri Sri Ravi Shankar Hindi

ईश्वर सर्वज्ञ कैसे है ?

सूत्र : तत्र निरतिशयं सर्वज्ञत्वबीजम् चैतन्य की इस अवस्था में, ईश्वर में सब कुछ जानने का बीज है।यह बहुत...
Sri Sri Ravi Shankar Hindi

ईश्वर क्या है?

ईश्वर  को समर्पण मात्र से भी तुम चेतना की उस पूर्ण स्फुरित अवस्था को प्राप्त कर सकते हो।  अब...
Sri Sri Ravi Shankar Hindi

प्रकृतिलय समाधि | The States of Meditation in Hindi

सूत्र :  भवप्रत्ययो विदेहप्रकृतिलयानाम् योगसूत्र के उक्त सूत्र में समाधियों के विभिन्न प्रकार बताते हुए महृषि पतंजलि कहते हैं, समाधि का अनुभव...
Sri Sri Ravi Shankar Hindi

समाधि का अनुभव कैसे कर सकते है? How To AchieveThe State of Meditation in Hindi

विरामप्रत्ययाभ्यासपूर्वः संस्कारशेषोऽन्य तुम्हारे कुछ करने से इस जागरूकता का अनुभव नहीं कर सकते हो, तुम प्रयास से अपने भीतर सजगता और...
Sri Sri Ravi Shankar Hindi

समाधि के चार प्रकार। Four Types of Samadhi In Hindi

पतंजलि आगे कहते हैं: वितर्कविचारानंदास्मितारूपानुगमात सम्प्रज्ञातः   वितर्कानुगम समाधि वितर्क :- जहाँ मन में सत्य को जानने के लिए और...
Sri Sri Ravi Shankar Hindi

वर्तमान क्षण में होना वैराग्य है। | Being in The Present Moment is Dispassion (Vairagya)

तीन तरह के गुण: सत्त्व, रजस और तमस तीन तरह के गुण हैं- सत्व, रजस और तमस। जीवन में तीनो...
Sri Sri Ravi Shankar Hindi

वैराग्य: आत्मज्ञान का चिन्ह | Dispassion: Sign of Enlightenment

आत्मज्ञान की अवधारणाएं आत्मज्ञान को लेकर लोगों की बहुत विचित्र धारणाएं होती हैं। हर संस्कृति और धर्म में आत्मज्ञान...
Sri Sri Ravi Shankar Hindi

वैराग्य क्या है? | What is Vairagya? | What is Disspassion

वैराग्य ध्यान के पथ पर अभ्यास के साथ दूसरा पहिया है। इस ज्ञान पत्र में हम वैराग्य के बारे...
Sri Sri Ravi Shankar Hindi

अपनी साँस द्वारा गहरे विश्राम का अनुभव करें| Breathing Exercises for Relaxation

साँस । Breath ज़िन्दगी का पहला कृत्य – श्वास लेना ज़िन्दगी का आखरी कृत्य – श्वास छोड़ना इन दोनों कृत्यों...